Ulajhi Sham Ko Pane Ki Zid Na Karo

Ulajhi Sham Ko Pane Ki Zid Na Karo,
Jo Na Ho Apana Use Apanane Ki Zid Na Karo,
Is Samandar Mein Tufan Bahut Ate Hai,
Isake Sahil Par Ghar Banane Ki Zid Na Karo.

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *