Khol De Pankh Mere, Kahata Hai Parinda

Khol De Pankh Mere, Kahata Hai Parinda, Abhi Aur Udan Baki Hai,
Jamin Nahin Hai Manjil Meri, Abhi Pura Asaman Baki Hai,
Laharon Ki Khamoshi Ko Samandar Ki Bebasi Mat Samajh Ai Nadan,
Jitani Gaharai Andar Hai, Bahar Utana Tufan Baki Hai.

खोल दे पंख मेरे, कहता है परिंदा, अभी और उड़ान बाकी है,
जमीं नहीं है मंजिल मेरी, अभी पूरा आसमान बाकी है,
लहरों की ख़ामोशी को समंदर की बेबसी मत समझ ऐ नादाँ,
जितनी गहराई अन्दर है, बाहर उतना तूफ़ान बाकी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *