दोस्त के खफा होने पर शायरी

होंठों पे उल्फत के फ़साने नहीं आते,
जो बीत गए फिर वो ज़माने नहीं आते,
दोस्त ही होते हैं दोस्तों के हमदर्द,
कोई फ़रिश्ते यहाँ साथ निभाने नहीं आते।

दोस्त के खफा होने पर शायरी

 

Honthon Pe Ulphat Ke Fasaane Nahin Aate,
Jo Beet Gae Phir Vo Zamaane Nahin Aate,
Dost Hee Hote Hain Doston Ke Hamadard,
Koee Farishte Yahaan Saath Nibhaane Nahin Aate.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *